ADVERTISEMENT

Mother Teresa Essay In Hindi | 10 Things About Mother Teresa In Hindi

ADVERTISEMENT

Mother Teresa Essay In Hindi

Mother teresa essay in hindi 10 lines, mother teresa essay in hindi, mother teresa essay in hindi pdf download, mother teresa essay in hindi 100 words, mother teresa essay in hindi for class 5, mother teresa essay in hindi wikipedia. about mother teresa in hindi, 10 pints about mother teresa in hindi, mother teresa speech in hindi.

ADVERTISEMENT

प्यार इंसानियत की सबसे अच्छी भावना है जो उसे एक सच्चा इंसान बनाती है। मानवता के प्रति प्रेम जाति और धर्म की संकीर्ण सीमा में नहीं बंध सकता। जिस व्यक्ति के हृदय में स्नेह और करुणा है, वह अपना पूरा जीवन मानव सेवा में लगा सकता है। मदर टेरेसा, ‘द एंजल ऑफ मर्सी’ बीसवीं सदी की सबसे प्रशंसित हस्तियों में से एक थीं। वह एक रोमन कैथोलिक मिशनरी थीं। वह उस दुर्लभ नस्ल के लोगों से ताल्लुक रखती थीं जो दूसरों के लिए अपना जीवन जीते हैं। उन्हें स्नेह, प्रेम, दया और निस्वार्थ सेवा की मूर्ति कहा जाता है।

Mother Teresa Essay In Hindi
Mother Teresa Essay In Hindi

मदर टेरेसा का जन्म 26 अगस्त, 1910 को यूगोस्लाविया के छोटे से शहर स्कोप्जे में अल्बानियाई माता-पिता के यहाँ हुआ था। उनके बचपन का नाम एग्नेस गोन्था बोजाक्षिम था। उसने 18 साल की उम्र में नन बनने का फैसला किया। इसके लिए वह अल्बेनियन सेंटर ऑफ नन से जुड़ गई। वह 1929 में लोएरोल्ट एटले स्कूल में शिक्षिका बनने के लिए भारत आईं। उन्होंने 1929 से 1948 तक कलकत्ता में भूगोल पढ़ाया। अपनी योग्यता, कड़ी मेहनत और समाज सेवा की भावना के कारण वे शीघ्र ही प्रधानाध्यापक बन गईं।

ADVERTISEMENT

1946 में, उन्हें कलकत्ता की झुग्गियों में काम करने की अनुमति दी गई। उसने एक नई मंडली की स्थापना की, “मिशनरीज ऑफ चैरिटी”। रोमन कैथोलिकों के आध्यात्मिक और प्रशासनिक केंद्र वेटिकन ने 1950 में इसे मंजूरी दी थी।

ADVERTISEMENT

मदर टेरेसा 1962 में एक राष्ट्रीयकृत भारतीय नागरिक बन गईं। उन्होंने काली मंदिर के पास ‘निर्मल हृदय’ की स्थापना की, जिसके दरवाजे बेसहारा, प्रतिशोधी, बीमार और असहाय लोगों के लिए हमेशा खुले थे। अब 125 देशों में इसकी शाखाएं हैं। यह संस्था 169 शैक्षणिक केंद्र, 1369 कल्याण केंद्र और 755 आश्रय गृह चलाती है।

Read Also Related Content

उन्हें 1979 में नोबेल शांति पुरस्कार दिया गया था। नोबेल शांति पुरस्कार के अलावा, उन्हें मैग्सेसे पुरस्कार (1962), पोप जॉन XXIII शांति पुरस्कार (1972), जॉन एफ कैनेडी अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार (1972), जवाहर लाल नेहरू पुरस्कार भी मिला। (1972) और 1993 में राजीव गांधी राष्ट्रीय सद्भावना पुरस्कार। उन्हें 1980 में भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार “भारत रत्न” से सम्मानित किया गया था।

ADVERTISEMENT

मदर टेरेसा हृदय रोग से पीड़ित थीं। वह 1989 से पेसमेकर की मदद से खींच रही थी।

मानवता के लिए उनकी सेवा हमेशा लोगों के दिलों में जिंदा रहेगी। अपने कैदियों के लिए उसका प्यार इतना महान था कि वह तीन बार मौत के मुंह से निकलकर उनकी सेवा करने के लिए निकली। उन्होंने 5 सितंबर 1997 को अपने होठों पर भगवान के नाम के साथ अंतिम सांस ली। आने वाली पीढि़यां हमेशा यह सोचती रहेंगी कि क्या ऐसा व्यक्ति कभी इस धरती पर मांस और रक्त के रूप में चला है।

चैरिटी के मिशनरी यह कहते हुए काम जारी रखते हैं कि मदर टेरेसा “आध्यात्मिक रूप से हमारे साथ वापस आ गई हैं।” बहन निर्मला उसका उत्तराधिकारी बनीं।
हमें बेसहारा, असहाय और बीमार लोगों की सेवा में उनके मार्ग पर चलना चाहिए। यही उन्हें हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

Leave a Comment

ADVERTISEMENT